गैंगस्टर विकास दुबे एनकाउंटर में मारा गया, 3 गोली सीने पर और एक हाथ में लगी

कानपुर: कानपुर मुठभेड़ केस का मुख्य आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे एनकाउंटर में मारा गया. इस खबर की आधिकारिक पुष्टि हो चुकी है. यूपी एसटीएफ की टीम विकास दुबे को लेकर जैसे ही कानपुर पहुंची, वह गाड़ी में सुरक्षाकर्मियों के पिस्टौल छीनने लगा. इसी बीच बैलेंस बिगड़ने के बाद गाड़ी पलट गई. गाड़ी पलटते ही विकास दुबे भागने लगा और पुलिस पर फायरिंग भी की. सुरक्षाकर्मियों ने भी अपने बचाव में गोलियां चलाईं, जिसके बाद विकास दुबे गंभीर रूप से घायल हो गया. सुरक्षाकर्मी उसे लेकर जल्दी अस्पताल पहुंचे. थोड़ी देर बाद डॉक्टर्स ने उसे मृत घोषित कर दिया.

पोस्टमार्टम के बाद डॉक्टर ने बताया कि एनकाउंटर के दौरान विकास दुबे को 4 गोलियां लगीं. 3 गोली सीने पर और एक हाथ में लगी.

घटना की विस्तार से जानकारी देते हुए पुलिस ने बताया, ‘विकास दुबे को लेकर यूपी एसटीएफ का काफिला जा रहा था. इसी दौरान हादसा हुआ और गाड़ी पलट गई. गाड़ी पलटने के बाद पुलिसकर्मी घायल हो गए. इसके बाद विकास दुबे पुलिस वालों की पिस्टल छीन ली और भागने लगा. भागते ए उसकने पुलिसकर्मियों पर फायरिंग की. पुलिस ने उसे सरेंडर कराने की कोशिश की, लेकिन वो नहीं माना. इसके बाद पुलिसकर्मियों ने आत्मरक्षा में गोली चलाई और विकास दुबे मारा गया.’

एनकाउंटर में 2 इंस्पेक्टर (एक एसटीएसफ इन्स्पेक्टर)  समेत चार पुलिसकर्मी घायल हुए हैं, जिन्हें कल्याणपुर सीएचसी में भर्ती किया गया है. सूत्रों ने बताया कि ये एनकाउंटर 7.15 से 7.35 के बीच हुआ. मीडिया समेत तमाम गाड़ियों को 6.40 से 7.30 तक रोका गया था.

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने मुख्यमंत्री आवास पहुंचकर सीएम योगी को विकास दुबे के एनकाउंटर के बारे में अपडेट किया. घटनाक्रम से जुड़े तथ्यों के बारे में सीएम को पूरी जानकारी दी. एनकाउंटर के बाद की विधिक कार्रवाई को लेकर भी पूरी जानकारी दी गई. इसके बाद सीएम आदित्यनाथ ने पुलिस महानिदेशक को तलब किया है. थोड़ी देर में ही DGP मुख्यमंत्री को पूरी घटना के बारे में विस्तार से बताएंगे

सूत्रों ने ये भी बताया कि विकास दुबे के परिवार वालों को पुलिस सुरक्षा में कानपुर ले जाया जा सकता है. विकास दुबे के भाई और उसके घर पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है.

इससे पहले कानपुर में टोल प्लाजा पर जैसे ही यूपी एसटीएफ की गाड़ियों का काफिला विकास दुबे को लेकर पहुंचा था, अन्य गाड़ियों के आवागमन को रोक दिया गया था