छत्तीसगढ़ में पिछले 2 दिन से मुसलाधार बारिश, बीजापुर नेशनल हाईवे 38 घंटो के बाद खोला गया, इंद्रावती उफान पर

indravati-river-flood

रायपुर। छत्तीसगढ़ में रायपुर सहित प्रदेश के कई इलाकों में कई दिनों से बारिश का दौर जारी है। बस्तर, बीजापुर और सुकमा में सबसे बुरे हालात हैं। इंद्रावती नदी का जलस्तर 8.700 मीटर पर पहुंच गया है, जबकि खतरे का निशान 8.300 मीटर है। हर घंटे 8 से 10 सेमी पानी बढ़ रहा है। इंद्रावती नदी के पुराने पुल के ऊपर से पानी का बहाव होने से यहां से आवाजाही बंद कर दी गई है।

बीजापुर में करीब 38 घंटे से बंद नेशनल हाईवे-63 खोल दिया गया है। बीजापुर में पिछले 10 दिनों से लगातार बारिश जारी है। हालांकि बीच-बीच में कम जरूर होती है। इसके चलते सभी नदी-नाले उफान पर हैं। भैरमगढ़ ब्लॉक के पास बोदली नाला उफान पर होने से पानी एनएच- 63 पर आ गया। इसके चलते रास्ता बंद हो गया है।

वहीं बारिश ने किसानों को राहत दी है। बरसात से जहां किसान अपने खेतों पर रोपा लगाने लगे है। वहीं ग्रामीण जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। नदी नाले उफान पर होने के कारण गांव के ग्रामीण जिला मुख्यालय से कट चुके हैं। लोगों से नाला पार न करने की अपील की जा रही है। सड़कों पर पानी भरा हुआ है। गांव में कई घर पानी की चपेट में हैं।

6 जिलों में रेड और 17 जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी
बारिश के चलते मौसम विभाग ने प्रदेश के 23 जिलों के लिए 24 घंटे का अलर्ट जारी किया है। साथ ही आकाशीय बिजली गिरने की भी आशंका जताई है।

  • यहां रेड अलर्ट : कोरबा, जांजगीर, रायगढ़, दंतेवाड़ा, सुकमा और बीजापुर।
  • यहां ऑरेंज अलर्ट : सरगुजा, जशपुर, सूरजपुर, बिलासपुर, बलौदाबाजार, गरियाबंद, धमतरी, दुर्ग, बालोद, बेमेतरा, कबीरधाम, राजनांदगांव, बस्तर, कोंडागांव, कांकेर व नारायणपुर। बीजापुर कलेक्टर रितेश अग्रवाल और तहसीलदार जुगल किशोर पटेल भी मौके पर मौजूद हैं।

Leave a Reply