आदिवासी संस्कृति को जानने नवा रायपुर में बनेगा शहीद वीरनारायण सिंह की स्मृति में बनेगा स्मारक

नवा रायपुर में प्रदेश की आदिवासी संस्कृति को जानने के लिए नाॅलेज हब बनेगा। यहां क्रांतिकारी शहीद वीरनारायण सिंह स्मारक और मानव संग्रहालय बनेगा। रविवार को विश्व आदिवासी दिवस के मौके पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इसका ई-शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री निवास से ही उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए इस प्रोजेक्ट को शुरू करने की मंजूरी दी।

यह निर्माण पुरखौती मुक्तांगन में 25 करोड़ 66 लाख रुपए की लागत से होंगे। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ के प्रथम शहीद वीरनारायण सिंह की स्मृति में पुरखौती मुक्तांगन में बनने वाले स्मारक से आने वाली पीढ़ियां आदिवासी समाज के इतिहास और आजादी की लड़ाई में उनके योगदान को जानेंगी।

यहां बनने वाले संग्रहालय में छत्तीसगढ़ की हजारों वर्षों में विकसित गौरवशाली सांस्कृतिक धरोहर को लोग देख सकेंगे। स्मारक के अलावा यहां राज्यस्तरीय मानव संग्रहालय भी बनेगा। संग्रहालय में प्रदेश के हजारों वर्षों में विकसित गौरवशाली सांस्कृतिक प्रतिमानों की विद्यमानता को सुनिश्चित करने के हरसंभव प्रयास किए जाएंगे। विलुप्त हो रही सांस्कृतिक परंपराओं के संरक्षण के लिहाज से यह बेहद जरूरी है।

राज्य की पारंपरिक जीवनशैली की सुंदरता और यहां के आदिवासियों के बारे में पूरी जानकारी इस म्यूजियम में मिलेगी। यहां प्रदर्शनियों और रचनात्मक क्रियाकलापों के माध्यम से हजारों वर्षों से पोषित देशज ज्ञान, परंपरा तथा मूल्यों, राज्य की पारंपरिक जीवनशैली की सुंदरता को जीवंतता पूर्वक प्रदर्शित किया जाएगा। संग्रहालय पारिस्थितिकी, पर्यावरण, स्थानीय मूल्यों, प्रथाओं इत्यादि के संरक्षण के प्रति प्रतिबद्ध रहेगा।

Leave a Reply